कुलेखानीमा पचास प्रतिशत कम विद्युत् उत्पादन